Amazon Deals

Friday, August 12, 2011

ज़िन्दगी एक सड़क है


ज़िन्दगी एक सड़क है, सुख -दुःख की तड़प है
चलती है ज़िन्दगी, दौड़ती है जिंदगी
भागती है जिंदगी, हारती है जिंदगी
आना है जाना है , खोना है पाना है
हर मोड़ जिंदगी बेजोड़ है, न कोई तोड़ है न जोड़ है

किसकी याद में पागल पल पल रोता है
जिंदगी सड़क है, कुछ मिलता है कुछ खोता है
फुटपाथ पर जिंदगी जो सोता है
महल क्या जाने कितना वो रोता है
सड़क भी नहीं सोता, रात भर रोता है
फुटपाथ के साथ रात भर जगता है

हर सुख दुःख का दर्पण है सड़क
जिंदगी का समर्पण है सड़क
थक चुकी है हार चुकी है,
कुचल चुकी है उलझ चुकी है
फिर भी चलती जा रही है, भागती जा रही है
प्यार के तलाश में एक नए आश में
जिंदगी की सड़क या सड़क की जिंदगी

अनंत है जिंदगी की सड़क,सुख दुःख की तड़प
ना कोई किनारा है ना पड़ाव है, हर पल भगाव है
लड़खड़ा कर गिरती, उठती फिर गिरती
रफ़्तार है जिंदगी लाचार है जिंदगी
बस भागना है सफ़र नापना है
कुछ पाना है और कुछ खोना है
खोया हुआ पड़ाव है सड़क
हर पल नया जुडाव है सड़क
सच योगी जिंदगी एक सड़क है !

यह कविता क्यों ? जिंदगी एक सड़क है सबको भागना है यहाँ से पर जाना कहाँ है नामालूम है सब चले जा रहे हैं सो हम भी चले जा रहे हैं एहसास है क्या पा रहे हैं क्या खो रहे हैं यादों की धुल समेत रहे हैं पर खुद सोचे तो सच जिंदगी एक सड़क है !

अरविन्द योगी

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...